Surguja-दूसरे के नाम का फर्जी फेसबुक आईडी बनाकर महिलाओं व अन्य लोगों को आपत्तिजनक मैसेज भेजे जाने के आरोप में साइबर सेल ने एक युवक को गिरफ्तार कर लिया।

दूसरे के नाम का फर्जी फेसबुक आईडी बनाकर महिलाओं व अन्य लोगों को आपत्तिजनक मैसेज भेजे जाने के आरोप में साइबर सेल ने एक युवक को गिरफ्तार कर लिया। साइबर सेल के गठन के बाद सरगुजा में यह पहला प्रकरण है, जिसमें सेल को सफलता मिली है। युवक द्वारा भेजे गए मैसेज को पढ़कर महिलाएं शर्मसार हो जाती थी। इसकी शिकायत पुलिस से की गई थी।

सोशल मीडिया पर बढ़ रहे साइबर क्राइम को देखते हुए सरगुजा पुलिस अधीक्षक द्वारा 20 फरवरी को एसआई धर्मनारायण तिवारी की अगुवाई में साइबर सेल का गठन किया गया। इसके गठन के बाद उसके द्वारा पहला प्रकरण दर्ज किया गया।

मामले की जानकारी देते हुए एडिशनल एसपी रामकृष्ण साहू ने बताया कि देवीगंज रोड निवासी अनामिका मोबाइल दुकान के संचालक संजय अग्रवाल द्वारा थाने में शिकायत दर्ज कराई गई थी कि उनके पुत्र के नाम पर कोई फर्जी फेसबुक आईडी बनाकर महिलाओं व लोगों को आपत्तिजनक मैसेज भेजा जा रहा है।
उन्होंने इसके साथ ही कोतवाली प्रभारी प्रशिक्षु डीएसपी मणिशंकर चंद्रा को बताया कि उसके पुत्र के नाम पर फर्जी आईडी बनाकर उसके ही परिवार के लोगों को आपत्तिजनक मैसेज किए जाने के मामले में महिलाओं द्वारा उनसे पूछा गया कि उनका पुत्र इस तरह का मैसेज क्यों कर रहा है। पुत्र से पूछताछ करने पर पता चला कि कोई उसके नाम का फर्जी आईडी बनाकर इस तरह की हरकत कर रहा है। कुछ दिनों बाद फिर मैसेज आने पर उसे मोबाइल पर बात करने को कहा गया तो उसने मोबाइल पर भी बात की।

इसके बाद उसने आईडी बंद करने व मैसेज डिलीट करने की बात कही थी लेकिन ऐसा नहीं हुआ। कोतवाली प्रभारी ने मामले को साइबर सेल के सुपुर्द कर दिया। साइबर सेल द्वारा मामले की छानबीन करने व कॉल डिटेल निकलवाने के बाद कोरिया जिले के वार्ड क्रमांक 7 रूपनगर निवासी मो. राशिद पिता मो. इस्लाम जो वर्तमान में अंबिकापुर के खरसिया चौक पर रहता है, के खिलाफ आईटी एक्ट व भादवि के तहत गिरफ्तार कर पूछताछ की गई।

कार्रवाई में थाना प्रभारी मणिशंकर चंद्रा, साइबर सेल प्रभारी एसआई धर्मनारायण तिवारी, आरक्षक अंशुल शर्मा, विरेन्द्र पैकरा, अरविंद उपाध्याय, स्मिता व रागिनी शामिल थे। एडिशनल एसपी रामकृष्ण साहू ने साइबर सेल के टीम को अलग से पुरस्कृत करने की भी घोषणा की। एडिशनल एसपी व सीएसपी आरएन यादव ने कहा कि लोग इस तरह की अपराध करने से बचे। साइबर सेल की नजर ऐसे क्राइम करने वालों पर है।

च्वाइस सेंटर में करता था काम
आरोपी ने पुलिस को बताया कि खरिसया चौक स्थित च्वाइस सेंटर में काम करता है। वह पीजीडीसीए का कोर्स भी कर रहा है। इसकी वजह से उसे कम्प्यूटर का ज्ञान भी था।

District: 
Surguja
Post Image: