Surguja- अंबिकापुर स्थित सरगुजा क्षेत्रीय ग्रामीण बैंक मैं डकैती का एक और आरोपी पकड़ा गया

अंबिकापुर ग्रामीण बैंक की लाकरो को काट कर की गई चोरी के मामले में एक और आरोपी संतोष गुप्ता को क्राइम ब्रांच और कोतवाली पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है, मुखबिर की सूचना पर पुलिस ने घेरा बंदी कर रखी थी मुखबिर के मुताबिक संतोष गुप्ता अम्बिकापुर जेल में बंद अपने साथियो से मिलने पटना से अम्बिकापुर आने वाला था और जिसके बाद संतोष गुप्ता के हुलिए से मिलते जुलते आदमी को पुलिस तलाश रही थी और नए बस स्टैंड में पटना से आने वाली बस में संदेह के आधार पर पुलिस ने एक शख्स को गिरफ्तार किया और उसके कागजात की जांच करने पर पता चला की वही संतोष गुप्ता है, पकडे गए आरोपी से पूछताछ करने पर उसने बताया कि पहले भी वो अरूऩ शर्मा के साथ काम कर चुका है, उसके पास कई गाडिया थी और वो जेल भी जा चुका है, संतोष ने बताया की अरुण गाडी चोरी का काम करता था… पूछताछ के बाद गवाहो के समक्ष वाहन चेक करने पर कुछ चांदी और सोना के कुछ आभूषण और कटर भी मिला है, खुलासा आरोपी संतोष गुप्ता की निशानदेही पर हुआ चूंकि इसके खुलासे मे पता चला कि मुख्य आरोपी शशि रंजन उर्फ़ अरूण शर्मा था और पकडे गए पांचवे आरोपी संतोष समेत तीन आरोपियों को हिस्से मे डेढ डेढ़ लाख रूपए ही मिले थे, लाकर कटिंग करने वाले मजदूर को लाने वाले शशिरंजन उर्फ़ अरूण उनको जानते थे, इन सभी बातो का खुलासा पकडे गए आरोपी ने पुलिस के समक्ष किया है। गौरतलब है की आरोपी को पकड़ने में साइबर सेल की विशेष भूमिका रही है जिसने समय समय पर आरोपी के मोबाइल की लोकेशन अपनी टीम को दी है। इस कार्यवाही के लिए सरगुजा आईजी हिमांशु गुप्ता व एस पी आर एस नायक के आदेशानुसार ए.एस.पी व सी एस पी अम्बिकापुर के निर्देशन पर कोतवाली पुलिस व क्राइम ब्रांच की टीम के कोतवाली थाना प्रभारी प्रशिक्षु डी.एसपी मणिशंकर चंद्रा, धर्मनारायण तिवारी, अलांगो दास, अजीत मिश्रा, समरेन्द्र सिंह, राजेश प्रताप सिंह, अमृत सिंह, अरविन्द उपाध्याय सक्रीय रहे वही क्राइम ब्रांच के प्रभारी भूपेस सिंह, राम अवध सिंह, धीरज गुप्ता, भोजराज पासवान, उपेन्द्र सिंह, ब्रिजेश राय, दशरथ राजवाड़े, अमित विश्वकर्मा, जितेश साहू, अंशुल शर्मा, वीरेन्द्र पैकरा ने पूरी कार्यवाही में अपना योगदान दिया।

District: 
Surguja
Post Image: